सोमवार, 18 जून 2018


अवधी कहानी -----------------------
tehu D;kj VqdM+k
                                  MkW0 jf'e'khy


vc ;fgdk yYyu D;kj Hkkx dgk tk; fd nqHkkZxA HkkX; ;gq fd uQhlk pkph vifu tehu D;kj cSukek yYyu ds ukeS db nhUgsu vkSj nqHkkZx ;gq Hkk fd ogh jkr uQhlk pkph dsj bUrdky gksb xkA yYYku vkS uQhlk pkph dsj dmuks [kwu dsj fjLrk rks u jg;] eqyq uQhlk pkph ds cjs yfjdk rs de u jg;A dkgs rs fd tcrs uQhlk pkph ds lkSgj eks0 eqLrQk dsj bUrdky Hkk jg;] rc rs e; ifjokj yYyu uQhlk pkph dsj ns[kHkky dhUgsl jg;A ogS muds lq[k nq%[k dsj lk>h jg;A obls rks uQhlk pkph dmuks vdsyh u jg;A rhu fcfV;k vkS ,dq yfjdk dsj Hkjk&iwjk ifjokj jg;A eqyq fcfV;k vius ?kj ifjokj ek lq[kh jg; vkS yfjdk vkfcn lgj ek dmuks Å¡ps vksgns ek ukSdjh djr jg;A muds [kkyktkr HkkbZ jgeku vkS dbZ vmj [kkunkuh ogh xk¡o ek clr jg;A uQhlk pkph ds lkSgj eksgEen eqLrQk xkWo dsj ij/kku jg; vkS mb viuh ij/kkuh ek xkWo ds fodkl ek iwjk /;ku nhUgsuA ljdkj }kjk pykbZ tk; okyh gj ;kstuk dk mb xkWo ek ykxw djok;su jg;A xkWo ds gj eubZ ds lq[k nq[k] gsr O;ogkj] rht&R;ksgkj ek mb lkFkS jgr jg;A ;fg rs xkWo okys mudk cgqr ekur jg;A ;fg fy;s tc mudk bUrdky Hkk rks xkWo okys pgfr jg; fd uQhlk pkph ij/kku cus] eqyq pkph viu d b cokyu rs nwfj j[ksu vkSj viu ealk tkfgj dhUgsu fd vc mb ;k ftUnxh d [kqnk dh cUnxh ek xqtkjk pgrh g;A muds yfjdk vkfcn pgr jg; fd vEeh muds lkFkS lgj pyS] eqyq uQhlk pkph dk ;gkS ukxokj jg; lks vkfcn tc okil ymVs rks mb yYyu rs dgsfu] ßHkb;kA b jO;kru dk rqe tksrks O;kokS vkS vEeh D;kj [;ky j[kkSA ge iapS le;≤ ij xkWo vkok dfjcSA yYyu vkfcn rs dgsfu] ßHkkbZ vkfcnA rqe pkph dbrh rs fulk[kkfrj jgoA vkS yYyu pkph dsfj rkftUnxh lsok dbds viu dkSy fuHkk;sflAÞ
  tc uQhlk pkph chekj iM+h vkS [kfV;k idfM+ yhUgsu rks muds ukrs&fjLrsnkj ft xkWo ek clr jg; mb rks mudsfj gkyr nsf[k ds ukd HkkS fldksM+r jg;A usjs rd u vkor jg;A eqyq yYyu pkph dsj th tku rs lsok dhUgsl] ik[kkuk rd lkQ djsfl] pkph ofgdh lsok Hkko rs vl xnxn HkbZ fd mb vifu lc tehu yYyu ds uke db nhUgsuA exj ogh jkr pkph py clhA
  vc ;k rks tekus dsfj jhfr vk; fd eubZ tYnh dksgqd dsj c<+rh ugh nsf[k ldr g;A fQfj pkph dsfj n;k rs yYyu rks etnwj rs lh/ks fdlku gksbxkA lks xkWao ds cgqr eubZ bjlk rs ijfp mBsA mb xkWo ek ,dq diksy dFkk cuk; ds izpkfjr dbZ nhUgsu fd ßyYyu tknw&Vksuk dbds pkph dk vius cl ek db ds tehu viS ukeS djk; yhUgsl g; vkS tehu ukeS HkS ufgu fd pkph dk ljx dk jLrk ns[kk; nhUgsflA ;gq yYyu rks vLrhu dsj lkWi fudlk] ekSdk yxrs  Mfl yhUgsflAÞ
  dkuS dku tc ;k ckr pkph dh vkSyknu ds dku ek ijh rks mUgqu dk ykx fd ßfcuk fpaxkjh drgw vkx ykxr g;A t:j ;fgek dqN lPpkbZ g;A ugha rks vEeh ;gq tehu dsj VqdMk ekew g ds uke fyf[k nsrhA ;gq rks ljklj /kks[kk /kM+h vk; vkSj ;fgdk eq¡g rksM+ tokc vc ge n~;kc vkS ;fg dkfQj rs viu tehu okil yb ds jgcAÞ vkfcn ds [kkunkuh lqusfu rks vkfcn ds ihB Bksdsfu] ßlkcklA ,dq lPpk balku ogS g; tks vius [kkunku dsj uke jks'ku djSA vius  /kje&beku dk ikyu djSA vc rqe ofg tehu dk VqdM+k yYyu rs okil ybds viu izfr"Bk dk;e djkSA
  xqjt ;gq fd /khjs&/khjs ogq tehu D;kj VqdM+k /kje dk izrhd cfuxkA iwjk xkWo dk xkWo nqb [ksHkk ek c¡fVxkA ,dq dgr jg; fd vc ;g tehu dmfum rjk okil u dhUg tkbZA pkgs [kwu dsjh ufn;k¡ dkgs u cfg tk;A cblh nwlj [ksek vkfcn dk HkM+dkor jg; fd yYyu rs ;g tehu gj&gky ek yhUg tkbA
  tmu xkWo vkt ryd eubZ&eubZ ek dmuks Hksn u ekur jg;A bZn dh lsob¸;k vkS gksyh dsjh xqf>;k gj tcku dk Lokfny djrh jg;A jgeku pkpk jkeyhyk ek guqeku dsj ikVZ vnk djr jg; rks eugj dkdk jkst+k vQ+rkj dsj bUrtke cM+s tksl ls djr jg;A eqyq dk dgk tk; ;fg cs<+c  oDr dk\ iy ek lc myV&iqyV gksbxkA lgh g dgk tkr g;A tj tks: vkS tehu yM+kbZ dsj tM+ g; lks ;gq tehu D;kj VqdM+k eubu ds eu ek Bw¡B gksbxk vkS I;kj eksgCcr dsj gfj;kyh lq[kk; x;A
  vkfcn lcds dgs ek vk; ds tehu D;kj VqdMk okil ys; ds cjs eqdnek nk;j dhUgsu vkS vxyh islh rd ds cjs lgj okil gksb xSA cblh tehu ij lc fgUnw&eqyleku nwUgksa viu&viu gd trkoS ykxA gdnkj rks cgqr gksbZ xS eqyq j[kokjk ,dq u HkkA /kku dsj rS;kj Qly [;kr ek Bk<+&Bk<+ lq[kk; ykxA yYyu cspkjk Hkfj&Hkfj vk¡f[ku Qly lq[kkr n~;k[kr jgk] eqyq b /kje ds Bsdsnkj ofgdk [;kr ek ik¡o u /kjS nhUgsuA xjhc D;kj [kwu] tmuq ilhuk cfu ds tehu ek fxjk jg;] tfgdk /kjrh ekrk vius mnj ek lesfVds vUu ds eksrh ds :i ek okil dhUgsl jg; og lc csnnhZ ds HksaV pf<+ xSA exj tc eubu dh vk¡f[ku ek ikuh u gks; rks [;kr ek ikuh d dks dgSA lhap ds vHkko ek vblh Qly lw[kr jgh] oblh isV dsfj fpUrk ek yYyu D;kj ftmA Hkw[k dsfj vfxu vkS /kjrh dsfj riu cq>koS D;kj mik; u jg;A
  islh ijS ij vkfcn lgj rs vk;sA vnkyr ek vkfcn vkS yYyu nwUgksa vi; ny&cy ds lkFk ekStwn jg;A tc yYyu dsfj gkftjh Hk; vkS ofgrs iwNk xk rks fcpkjs D;kj gyd lw[kxk] tcku rkyw rs pifd ykfx vkS vk¡f[ku ek vk¡lw Hkfj vk;A odhyu dsfj jVh jVkbZ ckr tcku rs unkjr gksb xS vkS fny dsfj ckr fcuk jVs tcku rs QwfV iM+hA cksyk ßekbZ ckiA gedk dqNkS ugha irkA ge rks dfygw uQhlk pkph ds lsod jgu vkS vktkS viud ;gS lef>r g;A gd csgd ge dk tkuh\ ;g tehu rks gekfj egrkjh luk; g;A dgr&dgr ofgds vkokt :af/k xSAÞ
  [kSj eqdnek dsj gkyq rks ogS Hkk tkSuq gks; d pghA vnkyr dsfj dkjokgh fny rs ugha fnekx rs pyr g;] vmj fnekx lcwr rs] vkS lcwr /ku rs iq[rk gksr g;A QSlyk Hkk fd tehu ij vkfcn dsj gd ekuk tkbA yYyu dk ;fg tehu rs vnkyr csn[ky djr g;A lqfu ds vkfcn dk lhuk pkSM+k gksbxkA njvly ;g thr [kkyh tehuh u jg;] etgch jg;A yYyu rks vnkyr dk QSlyk lqfu ds gkjs tqvkjh dh rjk  eq¡g yVdk; ds xkWo ru pfy Hk;A
  vkfcn [kqlh rs Qwys u lekfr jg;A mb lcrs ifgys viuh ofg /kjrh dk lyke djs i¡gqpsA igq¡ps rks ftm /kDd rs HkkA ifgys tmfu tehu Qly rs ygygkfr jg; ok vktq catj iM+h jg;A muds xjc rs rus psgjk d nsf[ko ds /kjrh ogh rjk Bw¡B jghA lkjk mRlkg dkQwj gksbxkA eu ek mnklh f?kfj vkbZA
  cgqr n~;kj rd [;kr ek :dS d ckfn tc mb viS ?kjS igq¡ps rks ?kj ek /kqIi v¡/ksjk Nkok jg;A njoktk [kksfyu rks pjejk; ds [kqfy xkA dgk tkr g; fd fcuk eubu ?kj Hkwru dsj Msjk gksr g;A lks uQhlk pkph ds ckfn ?kj ek dksm fn;k ckrh djb;k u jg;A ?kj ek txg&txg edM+h tkyk cquS jg;A ?kj dk ;gq gky nsf[k ds rks mb ?kcjk mBSA ckgj fudls rks dksm fn[kkbZ u nhUgslA xk¡o ek oblks eubZ lgh la>S viS&viS ?kj ek nqcd tkr g;A vkfcn dk ykx fd jkr vdsys dmuh rjk dVhA f[kUu eu rs mb cjks
  lcsjs&lcsjs ekew tku gkftj gksb xSA eubZ vi; LokjFk dk fl) djs d cjs fxjfxV dh rjk :i cnyr g;A tc pkph chekj jg; rc rks mb pkph ds ?kj dbrh n~;k[kr rd u jg; fd drgw ;k cyk gejs flj u ef< tk;A eqyq vktq rks ekew tku vkfcn dk csVok&csVok dgr v?kkr u jg;A dkgs rs fd mudk fcLokl jg; fd vkfcn ;fg xk¡o ek fVdS okys g; ugha] lks vc ;gq tehu D;kj VqdM+k mufgu dk feyhA ;fg xk¡o ek lcls djhch fjLrsnkj ob g;A [kqlh ds ekjs mb ckj&ckj vib nk<+h ek gkFk fQjkor jg; vkS ;fg bUrktkj ek jg; fd vkfcn muds eu dh ckr eq¡g rs fudkjSA eqyq ;gq dk\ vkfcn tmuq dhUgsu ofg rs ekew tku Bxs ls jfg xsA mb rks mudh vklk ds foijhr yYyu dk cksyk;su vkS cksys ßyYyuA tehu dsj cVokjk /kje] etgc ;k LokjFk ds uke ij ugha dhUg tk ldr g;A og rks geslk fdlku dsj jgh g; vkS vktkS ofg ij ogh dsj gd g;A ;gq tehu D;kj VqdM+k rqEgkj g;A ;fg ij rqEgkj gd g;A vEeh tku ,dq dke v/kwjk NksfM+u g;] ofgdk ge iwjk dfjr g;A ;fg tehu ds lkFkS ;gq ?kjkS rqEgjS ukeS dfjr g;] tfgek ;gq ?kj xtxt gksb tk;A ;fg ?kj ek vEeh dsjh ;kns g;A xkWo okys lqusfu rks [kqlh ds fn;k  rs muds fg;k txexk; mBsA
                                                  &3@8] fVdSrjk; rkykc dkyksuh]                             
                                                               लखनऊ &226017 A  
                                                        eks0 09235858688


शुक्रवार, 18 मई 2018


(कहानी)
दाखिल खारिज
# भारतेंदु मिश्र  
 मनोहर तीस साल कि नौकरी के बादि रिटायर भे रहैं| आज मनोहर कि आखिन मा सब पुरान अपनी जिन्दगी क्यार किस्सा सनीमा तना यादि आवै लाग रहै| तीस साल पाहिले दिल्ली मा मोरीगेट के सरकारी इस्कूल मा चौकीदार के पद पर बहाली भय रहै |गाँव के तिरवेनी मास्टर के साथै वुइ दिल्ली आये रहैं| रामेसुर सिंह औ मनोहर दुई भाई गाँव के सम्मानित ठाकुर रहैं |रामेसुर बड़े रहैं,तो मनोहर उनकी सब बात आखि मूंद के मानत रहैं|रामेसुर दबंग और मनोहर सीध सुभाव के रहैं|दुनहू भाइन के नाम साठ बिगहा कि खेती रहै मुला खेती सबियों रहै भगवान भरोसे |दादा लाई खेती किसानी ते सबका कौनिव तना गुजारा होति रहै| रामेसुर के तीनि  लरिका भे औ मनोहर के दुई बिटेवा भईं | याक दफा सूखा परा तो भुखमरी कि नौबत आय गय |यही बीच तिरबेनी मास्टर के साथ मनोहर गाँव ते दिल्ली चले आये|पाहिले के मनई गाँव जवार के मनई क्यार ध्यान राखति रहैं |तिरवेनी मास्टर वहे सरकारी इस्कूल मा पढ़ावत रहैं| मनोहर तिरवेनी के साथै रहै लाग औ अपने तिरवेनी कक्कू कि सेवा करै लाग |कबहूँ कबहूँ मनोहर का इस्कूल मा कुछ दिहाड़ी वाला काम तिरवेनी कक्कू कि मदति ते मिलि जाति रहै |धीरे धीरे मनोहर सौ दुई सौ रुपया गाँव म अपने बड़े भैया का मनीआडर्र ते पठवै लाग| मेहेरुआ औ दुनहू बिटेवा गावैं मा रहती रहैं |दुई तीन महीना पर तिरबेनी मास्टर के साथै वहू गाँव जायं तो सब लरिकन खातिर कुछ न कुछ कपड़ा लत्ता लय जायं |जिन्दगी चलै लागि रहै|

 अब मनोहर इस्कूल के प्रिंसिपल कि सेवा करै लाग रहैं |तब वुइ इस्कूल मा चौकीदार कि जगह खाली रहैं |तिरवेनी कि मदति से मनोहर कि कच्चे चौकीदार के पद पर बहाली हुइ गै|तब महीना के रु.300  उनकी तनखाह बनी रहै| जब तिरबेनी मास्टर तिमारपुर मा अपन सरकारी मकान एलाट कराय लीन्हेनि फिर अपन परिवार गाँव ते लय आये तब  तिरबेनी कक्कू मनोहर ते कहिन्-मनोहर भैया अब तुम इस्कूल मा रहौ ,हमका  सरकारी मकान मिलिगा है |’ तनखाह तो थोरी रहै मुला चौकीदारी मा रहैकि सुबिधा मनोहर क मिलि गै| अब पूरा इस्कूल उनका घरु हुइगा रहै |इनकी सेवा ते प्रिंसिपलवा  याक दिन कहेसि रहै -
‘देखो! मनोहर ,रात में इस बिल्डिंग के तुम्ही मालिक हो|किसी को बिलावजह घुसने न देना|कोई परेसानी हो तो मुझे रात में फोन करना और मेरा फोन न मिले तो सीधे 100 नम्बर, माने पुलिस को|इस करोड़ों की सरकारी जायादात के मालिक अब तुम ही हो|’
‘जी साहेब ,समझ गएन |पूरे जी जान से चौकीदारी करबै |’
 मनोहर राति मा टार्च लैकै जब स्कूल म गश्त लगावें तो मन मा बहुत खुस होंय,मानौ यह उनकी बाग़ आय  |गाँव म जब अंबिया लगती रहें तब राति म बाग़ रखवाई खातिर मनोहर बागै जाति रहैं | धीरे धीरे मनोहर क सब बीती जिन्दगी के किस्सा रहि रहि यदि आवै लाग| रिटायर हुइके गांवे जायकि बड़ी ललक रहै|
 फिर यादि आवा – कि नौकरी पर बहाली के बादि  अब मनोहर सात आठ एकड़ जमीन पर बने इस्कूल म चौबिसौ घंटा रहै लाग| इस्कूल औ प्रिंसिपल कि सेवा मा उनका सब टाइम कटै लाग| फिर नौकरी पक्की भइ ,कुछ तनखाह बढ़ी तो अपन जेब खर्च निकारि के सब बड़े भैया  के नाम मनीआर्डर ते गावैं पठवै लाग| बड़े भाई रामेसुर सब खेती किसानी औ इनकी गिरिस्ती संभारे रहैं| साल बादि जब मनोहर गाँव पहुंचे तो रामेसुर कहिन- अब तुम्हरी दुनहू बिटिया सयानी  हुइ गयी है, इनका बिहाव करैक सोचि लेव| सीता अठारह कि भै, औ गीता सत्तरह कि है| बिन महतारी कि बिटेवा कब तक घर मा बैठरिहो ? जब ते तुमार दुलहिन मरी रहै, तब ते तुम गाँव आना कम कइ दिहेव ? ..
हाँ दद्दू ,मुला हमरे तीर तो बियाहे खातिर पैसा है नहीं,जो थोरा पैसा जोरेन रहै सब वहिके इलाज मा खर्च हुइगा | तुमते का छिपा है ?’
बौड़मदास , तो का सयानी बिटेवा घर मा बैठरिहो ?’
नाहीं ,दद्दू अब तुमहे बताओ ..का करी|’
हुक्का गुड़गुड़ावति भये रामेसुर बोले-
पांच साल ते तुम्हारि खेती औ गिरिस्ती संभार रहेन  है| अब का तुमरी बिटेवा हमहे बियाहब ? अपन बंटवारा कइ लेव .. तुम जो दुई तीन हजार रुपया भेजि देति हौ तो का वहिमा तुमरी बिटियन क बिहाव हुई जाई?’
दादा ,हम का बताई ..रास्ता तो तुमहे बतैहौ| ’
तुम सरकारी चौकीदार बने घूमति हौ .हम गंवार मनई हियाँ गाँव वाले पूछै लाग हैं कि सीता गीता क्यार बिहाव कब करिहौ ? ’
तो बताओ का करी ?’
अरे , न होय तो ,पुरबह वाला चारि बिगहा वाला खेतु बेंच लेव| ’
दद्दू ,खेतु घरहे म रहि जाय ..कोई दूसर उपाय बताओ|’
और हम का बताई , न होय तो अपने भतीजे महेसवा का दिल्ली लै जाओ ,यहू का चौकीदारी मा बहाली करवाय देव,तो  तुमरी बिटिया बेहि जैहैं| लरिका मिलतै खन बिहाव हुई जाई|’
ठीक है दद्दू! कोसिस कीन जाई, नई बहाली अबै बंद हैं|’
दुसरे दिन मनोहर दिल्ली लौटि आये|मनोहर अपने भतीजे के लिए सबते चिरौरी कीन्हेनि मुला कहूं बात न बनी|महीना बाद महेसवा घर लौट गवा| चार दिन बादि रामेसुर कि चिट्ठी आयी|वहिमा लिखा रहै-‘ महेस कि नौकरी तो लगी नहीं अब अपने हिस्से कि जमीन हमरे नाम कइ देव औ सीता गीता कि चिंता से आजाद हुइ जाव|’
चौकीदारी म जादा छुट्टी न मिलत रहै| राति मा सीटी, डंडा फटकारे के अलावा दिन मा प्रिंसिपल कि सेवा..लेकिन हियाँ साफ़ सफाई औ मेहनत के मामिले म गाँव ते जादा मस्ती रहै|टाइम पर घंटी बजावैं औ साहेब कि मेज मनोहर बड़े मन ते चमकावति  रहैं | अब तिरबेनी मास्टर रिटायर हुइगे रहैं |वुइ अपने गाँव लौटि गे रहें|दुःख तकलीफ बतलाय वाला हिंया दिल्ली म कौनौ न रहै| आज फिर वाहिका वह बिटियन के बियाहे कि सौदेबाजी यादि आयी|
थोरे दिन मनोहर चुपान रहे ,लेकिन याक दिन सुबेरे गाँव ते फोन आवा रहै  -‘हम लकड़बग्घा बोल रहेन  हैं...’
‘दादा पांयलागी,.. ’ रामेसुर की आवाज पहिचाने म देर न लगी| रमेसुर गाँव जवार म अपन जलवा बनाए रहें| उनके भौकाल के तई गाँव के लरिका उनका लकड़बग्घा कहै लाग रहैं|
‘ठीक है दादा ,तुम जौन कहत हौ ,हमका वहु मंजूर है|..हम अपन सब जमीन तुमरे नाम कर देबै,तुम लरिका देखि लेव|..हमारी सीता गीता क अब तुमहे पार घाट लगैहौ|..हम येही हफ्ता म आइत है| दादा!..अब बिटिया पैदा कीन है,तो वाहिकी सजा हमहे भुगतब|’
‘हाँ तो पहिले हमरे नाम दाखिल खारिज कराओ तब आगे बियाहे कि कौनिव बात होई| तुहार कौन भरोसा ...’
मनोहर अपने हिस्से कि जमीन रमेसुर के नाम करा दीन्हेनि| फिर दुनहू बिटेवन के बियाह रमेसुर अपने हिसाब ते निपटा दीन्हेनि रहै| मनोहर सब खेती बिटेवन के मारे अपनेहे भाई ते हारि चुके रहें| बिटेवा अपने घर की हुइ गयीं | बाप ते उनका जादा संबंध कबहू न बनि पावा,वुइ दुनहू लकड़बग्घा के भौकाल ते जुडी रहैं|
अब मनोहर खुद का कटी कनकैया ताना बेघर महसूस करइ लाग रहै|रिटायरमेंट के बादि गाँव जाय कि वहिकी इच्छा अब मरि गइ रहै|हालांकि स्कूल म सबते यहै कहेनि कि गाँव जाय रहें है लेकिन वुइ नन्द नगरी की मलिन बस्ती म एक कमरा वाला मकान लै के रहै लाग| अब उनका लाखन रुपया रिटायरमेंट पर मिला रहै|बिटिया दामाद उनते संपर्क कीन्हेनि मुला मनोहर अब गाँव कि सब नातेदारी त्याग दीन्हेनि रहै|अब उनका नन्द नगरी म महुआ मिलि गय रहैं| महुआ चार घरन म चौका बासन करति रहै|मनोहर वहिते अपन खाना बनवावे लाग|धीरे धीरे महुआ कब मनोहर के घर ते मन मा समय गयीं कुछ पता न चलि पावा| यवै याक दिन पान कि दूकान पर दुनहू कि मुलाक़ात भइ रहै| दुनहू बीड़ी पियै के सौखीन रहैं| महुआ के आगे पाछे कोऊ न रहै| मनोहर अपने आगे पाछे वालें क त्यागि चुके रहें|बरसन बादि महुआ औ मनोहर जिन्दगी कि खुसी क मतलब समझेनि रहै| अब महुआ मनोहर साथै रहै लाग तो महुआ दुसरे घरन का चौका बासन बंद कइ दीन्हेनि |
अब दुनहू अपनी नई दुनिया म मगन रहें| अब अपन घर दुआर दुलहिन सब मनोहर जुटाय लिहिन तो याक दिन महुआ पूंछेसि- ‘हम दोनो सादी कइ लें ?’
मनोहर कहेनि –‘काहे सादी बियाह कि क्या जरूरत है..? यही तना लिव इन ...म रहबै | तुमका कोई तकलीफ है का?’
‘नाहीं ...हमरे कौन बैठा है पूछे वाला...’
‘तो चलौ फिलिम देखे चली ...ईडीएम म इश्किया लगी है| हमका ऊ ‘आजा रे संवरिया’ वाला गाना बहुत नीक लागति है|’
महुआ मनोहर कि जिन्दगी म जैसे जैसे दाखिल भय,मनोहर कि सब पुरानि जिन्दगी मानौ खारिज हुइगै रहै|अब मनोहर क महुआ के अलावा कुछ यादि न रहै|


########################################

गुरुवार, 5 अप्रैल 2018

Amrendra Nath Tripathi  की वाल से-
लोकार्पण, काव्यपाठ और परिचर्चा : कुछ बातें कुछ छवियाँ
कल दिल्ली के Academy of Fine Arts & Literature में अवधी प्रेमियों की उत्साहवर्धक मौजूदगी में पुस्तक ‘समकालीन अवधी साहित्य में प्रतिरोध’ (सं.-अमरेन्द्र अवधिया) का लोकार्पण हुआ। आयोजित संगोष्ठी में पुस्तक पर महत्वपूर्ण चर्चा हुई और कई अवधी कवियों ने प्रतिरोधी स्वर की कविताओं को पढ़ा। आरंभ में साहित्यकार रजनी तिलक और सुशील सिद्धार्थ के असामयिक निधन पर दो मिनट का मौन रखा गया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे ख्यातिलब्ध साहित्यकार असग़र वजाहत Asghar Wajahat ने अपने रोचक संस्मरणों के माध्यम से अवधी भाषा, या फिर भाषा की ही, क्या भूमिका होती है, इस पर प्रकाश डाला। पुस्तक पर अन्य वक्ताओं के मतों की अहमियत स्वीकारते हुए, दुहराव से बचते हुए उन्होंने किस्सों-सी रोचकता द्वारा अपना दिलचस्प व्याख्यान प्रस्तुत किया। उनके संस्मरण अपने निष्कर्ष में भाषा की ताकत का अहसास कराते थे। अवधी के महान कवि तुलसीदास के साहित्य पर उन्होंने अपनी राय स्पष्ट की कि उनका साहित्य प्रतिरोध का साहित्य है। यह प्रतिरोध जनपक्षी है। वैसे ही जैसे ईरान में फिरदौसी का साहित्य प्रतिरोध करता है। इसी प्रसंग में उन्होंने अपने तुलसीदास पर लिखे जा रहे नाटक का जिक्र किया और नाटक के दूरदर्शी संवाद का उल्लेख किया जिसमें अकबर की जगह ‘इतिहास’ में तय होती है और तुलसीदास की जगह ‘वर्तमान’ में।
मुख्य वक्ता के रूप में, जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के प्रोफेसर चंद्रदेव यादव Chandradev Yadav ने कहा कि संकलन की कविताओं की टोन खांटी अवधी की है। और यदि इसमें इतनी पुख्ता जनचेतना है तो इसे जन के बीच आना ही चाहिए। परिवर्तनकामी चरित्र इस संग्रह की कविताओं में है। हर भाषा का अपना तेवर होता है और ये कविताएँ अवधी में ही संभव थीं। कविताओं में ‘फोर्म’ की विविधता की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि यहाँ एकतरफ़ पद, बरवै, मुकरियाँ, कवित्त, गजल, कुंडलिया, बिरहा जैसे छंद हैं तो दूसरी तरफ़ आधुनिक प्रकार की कविताएँ भी।
दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रोफेसर आशुतोष कुमार Ashutosh Kumar ने कहा कि अवधी भाषा की कविता बड़ा गंभीर हस्तक्षेप कर रही है। इतनी कविताओं को एक साथ पढ़ना एक रिवीलेशन है। अवधी सहित्य में प्रतिरोध का स्वर निखरा है। यह संग्रह यह बताता है कि भाषा के अपने बहुत सारे शब्द होते हैं जिनकी अपनी संवेदना है और इन भाषाओं का चलन खत्म होने से हम इन शब्दों को खोते हैं। ये कविताएँ आम लोगों की भाषा में हैं। इनका अनुवाद हो तो इनकी धार ख़त्म हो जाती है। इस संकलन में कमज़ोर कविताएँ बहुत कम हैं।
कार्यक्रम का संचालन कर रहे प्रख्यात आलोचक बजरंग बिहारी तिवारी ने छुटपुट टिप्पणियों में महत्वपूर्ण बातें कहीं। उन्होंने कहा कि लोक अराजनीतिक नहीं होता। लगे भले। रामचरित मानस में मंथरा जहाँ कहती हैं कि ‘कोउ नृप होय हमैं का हानी’, उसके तुरंत बाद एक बड़ा राजनीतिक उलटफेर होता है जिसमें उनकी बड़ी भूमिका है। बजरंग जी ने कहा कि अवधी में बाज़ार का प्रवेश नहीं हुआ है। उन्होंने यह भी कहा कि लोक हिंसक शक्तियों की पहचान अपने ढंग से कर लेता है, ये कविताएँ इस बात को बताती हैं। इस बात को देखने का झरोखा हैं ये कविताएँ।

अर्थशास्त्री अजय रंजन ने कहा कि ‘मनी’ एक सोशल फोर्म है, सोसाइटल डिवाइस है, केवल आदान-प्रदान करने का जरिया नहीं। नोटबंदी के कारण पारिवारिक रिश्तों में, या सामाजिक रोश्तों में, बदलाव करने की कोशिश की गयी है। उसी तरह जैसे नसबंदी या आपात्‌काल के दौरान ऐसी कोशिश की जा चुकी है। पैसे का अपना सामाजिक जीवन होता है। सत्ता इसे पहचान कर लोगों के पेशे में हस्तक्षेप करके उन्हें मजदूर बना देती है। संग्रह की एक कविता का उन्होंने जिक्र किया - ‘तब तो रहय नसबंदी / अबकी हय नोटबंदी’।
जानकी देवी कॊलेज-डीयू की डॊ. सुधा उपाध्याय सुधा उपाध्याय का अवधी में वक्तव्य देने का ढंग बड़ा रोचक रहा। उन्होंने कहा कि अवधी बोली नहीं लोकभाषा है। अवधी में बड़ा रचा-बसा संसार है जो सजग है। विचारों के उन्नयन के लिए राजनीतिक पैठ जरूरी है, जोकि अवधी कविता में मिलती है। इस दृष्टि से उन्होंने तुलसी कृत रामचरितमानस की अहमियत रेखांकित की। उन्होंने इस बात की ओर भी इशारा किया कि कविता आंदोलनधर्मी होनी चाहिए लेकिन वह इश्तहार का उपकरण भर न बने।
स्वामी श्रद्धानंद कॊलेज-डीयू के डॊ. टेकचन्द Tekchand Du ने कहा कि लोक में प्रतिरोध और प्रतिपक्ष ज्यादा दिखाई देता है। उन्होंने कहा कि कुलीन कविता में इतनी शक्ति नहीं होती कि वह इसे दर्ज करे। जहाँ टकराव की बात आती है वहाँ लोक शैली ही काम करती है। यह सब इस संकलन की कविता में देखा जा सकता है। इन कविताओं को आने वाले चुनावों में नारे के रूप में जन-जन तक फैलाया जाय। उन्होंने कहा कि राष्ट्रभाषा को रस देने का काम लोकभाषा ही करती है।
पुस्तक के संपादक डॊ. अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी ने पुस्तक से संबंधित कुछ जिज्ञासाओं का जवाब दिया और कहा कि आगे भी इस तरह के संकलन लाने की योजना रहेगी।
कार्यक्रम में अवधी कविताओं के पाठ का भी एक सत्र रखा गया था जिसमें डॊ. भारतेन्दु मिश्र Bhartendu Mishra , मृदुला शुक्ला Mridula Shukla, ममता सिंह Mamta Singh, अमित आनंद अमित आनंद, बृजेश यादव Brijesh Yadav, अटल तिवारी Atal Tewari, विष्णु वैश्विक विष्णु 'वैश्विक' आदि ने कविताएँ पढ़ीं। लंबे समय से दिल्ली में रह रहे अवधी साहित्यकार भारतेन्दु मिश्र ने कहा कि पिछले बत्तीस वर्षों में मैं पहली बार अवधी को लेकर इतनी सार्थक बातचीत और कार्यक्रम को देख रहा हूँ।
वरिष्ठ कवि मिथिलेश श्रीवास्तव Mithilesh Shrivastava की मौजूदगी से कार्यक्रम और समृद्ध हुआ। श्रोताओं से भरे हुए सभागार को देख कर सभी को खुशी मिल रही थी। लोकभाषा के, अवधी के, प्रेमियों का उत्साह देखने लायक था। कार्यक्रम में पुस्तक के प्रकाशक, परिकल्पना प्रकाशन के, शिवानंद जी Shivanand Tiwari भी उपस्थित थे। अंत में डॊ. नीरज कुमार मिश्र Neeraj Mishra ने सबका धन्यवाद ज्ञापन किया।
[ रपट : देवेश कुमार ]

शनिवार, 17 मार्च 2018


बेचैनी तो बनी रहेगी,सुशील भाई











(2/7/1958 -17 /3/2017)
कितना अनकहा छोड़ गए सुशील भाई,दिनांक 17  मार्च 2018 सुबह भाई विवेक मिश्र से फोन पर बात के बाद सुशील सिद्धार्थ के अचानक चले जाने का समाचार मिला|मन विचलित है सहसा विश्वास ही नहीं हुआ| पिछले चालीस वर्ष किसी फिल्म की तरह नाच रहे हैं|सन 1977 से लेकर अब तक  सुशील भाई के अनेक रूपों से साक्षात्कार होता रहा| सुशील भाई, हमेशा  छोटे बड़े रचनाकारों की नाक - मुंह पोंछ उन्हें साहित्यकार के रूप में स्थापित करने की कवायत में अपना जीवन दांव पर लगाते रहे| फ्रीलांसिंग का संघर्ष आमरण उसे लिखते रहने के लिए बाध्य करता रहा,और वो बस दिन रात लिखता ही रहा | अपने मौलिक के रूप में कुछ व्यंग्य और कुछ कवितायें ही प्रकाशित करा पाए बाकी दूसरो के लिए ही लिखते हुए चले गए|
जुलाई 1977 में बीए प्रथम वर्ष की कक्षा में हम दोनों पहले पहल मिले|बहसों और गंभीर युवा मानसिकता की बातों में वाद विवाद के बीच हमारी मुलाकातें निकटता में बदलती गयीं| हम दोनों अतुल अनजान की सभाओं में भी एक साथ होते थे|मुझे याद आता है उन दिनों लखनऊ वि.वि. का विशाल टैगोर पुस्तकालय,जिसके विशाल वाचनालय में हम लोग बैठकर कबीर तुलसी और निराला,प्रसाद और मुक्तिबोध के बारें में बातें किया करते थे| दोबीघा जमीन,फागुन और गर्महवा जैसी फ़िल्में भी हम दोनों ने तभी एक साथ देखी थीं|तब अनेक उपयोगी किताबें पुस्तकालय से लेकर ही पढ़ने का अवसर  मिल पाता था|हम दोनों ने बी.ए. एक साथ किया था|इसी दौरान  हम एक साथ ही हजारीप्रसाद द्विवेदी,अमृतलाल नागर,शिवमंगल सिंह सुमन और रमई काका जैसे साहित्यकारों से भी मिले थे|उनदिनों प्रो.हरिकृष्ण अवस्थी जी हिन्दी के विभागाध्यक्ष थे| पेन कागज़ लेकर विद्वानों लेखकों के विचार सुनने के लिए हम लोग तत्पर रहते थे|ऐसे आयोजन तब अक्सर विश्वविद्यालयों में होते थे|सुशील भाई के पिताश्री डीएवी. कालेज में हिन्दी के ही प्राध्यापक थे इसलिए सुशील भाई का परिचय क्षेत्र उस समय भी बहुत व्यापक था|अद्भुत प्रतिभाशाली तो सुशील जी थे ही|पूरा नाम सुशील कुमार अग्निहोत्री था किन्तु एम ए .के बाद उन्होंने अपना उपनाम सिद्धार्थ रख लिया था|1980 में सुशील ने विभाग में सर्वोच्च अंक लेकर स्वर्ण पदक जीता था|वो लगातार अपने को प्रमाणित करता जा रहा था|हालांकि मैं संस्कृत में एम ए.करने लगा किन्तु हमारी मुलाकातें लगातार होती रहीं|हिन्दी और संस्कृत दोनों विभाग आमने सामने होने के कारण हमारी बतकही और चर्चा में और इजाफा ही होता रहा| अब हम प्रतिद्वंदी न होकर अच्छे पारिवारिक मित्र बन चुके थे|इसीबीच कुछ तुकबन्दियाँ भी हम लोग करने लगे थे| आशा अग्रवाल के साथ मिलकर 1981 में सुशील भाई ने पहली पत्रिका ‘संकल्प’का संपादन किया|उसके प्रवेशांक के लिए मुझे लिखने के लिए कहा मैंने कालिदास पर लेख लिखा था| वह मेरा पहला ही लेख था जो सुशील भाई ने मुझ से लिखवाया था|ऐसे ही अनेक मेरे समकालीन मित्रों को कवि  लेखक बनाने के लिए सुशील भाई प्रेरक की भूमिका निभाते रहे | ‘संकल्प’ के एक दो और अंक निकले फिर वह बंद हो गयी |घर वालों की सहमति के बिना ही इसी बीच आशा जी से उनका प्रेम विवाह हुआ| जीवन और संघर्ष आगे बढ़ता रहा|मेरी प्रारंभिक हिन्दी अवधी की कवितायेँ भी सुशील भाई के प्रयास से ही पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई|वर्ष 1986 में  मैं नौकरी के सिलसिले में दिल्ली आ गया| सुशील भाई संघर्ष करते रहे| गुरुवार प्रो.सूर्यप्रसाद दीक्षित जी के विद्यार्थी होने के बावजूद सब प्रकार से योग्य होते हुए भी उसे कालेज या विश्वविद्यालय में नौकरी नहीं मिल पायी यह विडम्बना ही रही |प्रारंभ में वो अन्य छोटी नौकरी करना ही नहीं चाहते थे बाद में खिन्नता और किसी स्तर तक आत्महीनता और कुंठा का बोध उन्हें लगातार पीड़ित करता रहा|उन दिनों कई वर्षों तक दीदी प्रो.कैलास देवी सिंह जी ने सुशील भाई को हर प्रकार से सहयोग करते हुए संभाला| लखनऊ वाला सुशील भाई का पता और बिरवा का पता भी दीदी कैलास देवी सिंह जी के घर का ही पता था|


वर्ष 1989 में सुशील ने अवधी की पत्रिका ‘बिरवा’ निकाली तब फिर मुझे अवधी में लिखने को कहा| उन दिनों उन्होंने लखनऊ के पुरनिया स्थित अपने घर में ही प्रेस लगा लिया था|हिन्दी पत्रकारिता और लेखन से जीवन यापन की कठिन कल्पना को ही सुशील भाई ने अपना मार्ग चुन लिया|हतप्रभ करने वाली वाक्पटुता,गंभीर और सामान्य विषयों पर सटीक टिप्पणी करने वाले लेखक की उसकी छवि हिन्दी के अनेकानेक बाहुबलियों को आकर्षित और चकित करती रही| इतनी कुशलता के बावजूद हिन्दी लेखन के माध्यम से जीविकोपार्जन करते हुए सुशील भाई ने अपना पूरा जीवन उनसठ साल नौ महीने में ही जी लिया| कमलेश्वर जी सुशील भाई के लेखन से ही प्रभावित होकर उन्हें सीरियल लिखने के लिए मुम्बई ले गए थे|’तद्भव’ ‘कथाक्रम’ ‘लमही’ जैसी अनेक पत्रिकाओं के प्रारंभिक अंक सुशील भाई के परिश्रम से ही निकले थे|रवीन्द्र कालिया उन्हें दिल्ली लाये तो कहीं न कहीं मूल में सुशील की प्रतिभा ही थी| लेकिन सुशील भाई जीवन की गणित हल करते हुए नई राह खोजते रहे ,चतुर सुजान की तरह जिस डगर पर आगे बढे वहां कुछ नया करने की कोशिश में उसे छोड़ दिया उधर दुबारा नहीं मुड़े| अक्सर बिलावजह अपने ही सगे संबंधियों, हित चाहने वालों को अपना शत्रु भी बना लिया| जीविकोपार्जन के लिए लगातार लिखना उसकी मजबूरी थी कुछ माध्यम दर्जे के संपन्न लेखक उसकी इस मजबूरी का लाभ भी उठाते रहे| हालांकि अब उसके पास काम की कमी न थी लेकिन शरीर और स्वास्थ्य कहीं शिथिल हो रहा था| रक्तचाप और मधुमेह तो खानदानी था ही लेकिन वो सोचते रहे कि इस बीमारी को भी इसी प्रकार संघर्ष और जिद से जीत लेंगे परन्तु हमेशा वैसा कहाँ होता है जैसा मनुष्य सोचता है| 
तुम तो ह्रदय गति रुकने से हमें छोड़ गए लेकिन शताधिक युवा लेखकों को प्रेरित और प्रभावित करने वाले मित्र सुशील सिद्धार्थ को आज अलविदा कहने का साहस नहीं जुटा पा रहा हूँ|अब तो विकल मन बस तुम्हे लेकर रो रहा है|दिल्ली में तुम दस वर्ष रहे,उसमें से एक वर्ष तो हम साथ भी रहे लेकिन अपने काम की धुन में तुमने वैसा संवाद करने और लड़ने का एक भी मौक़ा नहीं दिया|ये बेचैनी तो सदा बनी ही रहेगी|काश तुम देख पाते कि जाने कितने मेरे जैसे तुम्हारे चाहने वाले दोस्त आज दुखी और निराश हैं|


इतनी जल्दी त्रिधारा की एक धारा सूख जायेगी यह अनुमान नहीं था|  'अवधी त्रिधारा' (सं.डॉ.रामबहादुर मिश्र) में संकलित सुशील भाई का एक गीत उनके जीवन की वास्तविकता का पता दे रहा है,मानो सुशील जी को कलेजे में चूहे लग जाने और उसके छलनी हो जाने का बोध पहले ही हो गया था-
धंधा न पानी
कैसे गुजर अब होई अइसे गुजरिया
धंधा न पानी|
सूनी परी है जैसे सारी नगरिया
धंधा न पानी||
आपनि बिथा हम रोई पथरन के आगे
हमरे करेजे मइहाँ मुसवा हैं लागे
झांझर परी है हमरे मन की चदरिया
धंधा न पानी ||
कारी अंधेरिया दउरै लै लै कै लाठी
लकड़ी कै घोड़वा लादे लोहे कै काठी
हमारे करम  मा  नाहीं कउनौ उजेरिया
धंधा न पानी||
हउसन प पाला परिगे सपना झुराने
सातिर सिकारी द्याखौ बैठे मुहाने
का जाने अब को लेई हमरी खबरिया
धंधा न पानी||

सोमवार, 12 मार्च 2018


(लघु कथा)

मिठुआ सुर
# भारतेंदु मिश्र

प्रोफ़ेसर किरपासंकर दिल्ली विश्वविद्यालय म पढ़ावति रहै | मेट्रो ते उनका रोजु आना जाना रहै| वाही दिन उनके बगल कि सीट पर एमफिल. के दुइ चंट बिद्यार्थी बैठ रहैं, उनमा याक चटकि बिटवा रही दूसर वाहिका दोस्त मुरहंट लरिकवा रहै |दुनहू लपटति –चपटति गपुवाय लाग| प्रोफ़ेसर अपने थैले ते याक कितबिया निकारि के पढ़ै क नाटक करै लाग|उनकी नजर किताब म रहै मुला कान रिसीवर बनिगे रहै |वैसी बगल म दुनहू अपनी लीला मा मगन रहैं|प्रोफ़ेसर उनकी तरफ देखे बिना उनकी सब बातैं सुनत रहे|लरिकवा अपनी दोस्त ते कहेसि - ‘यार,सिनाप्सिस वाली प्रोबलम साल्व करा दे|’
‘अभी तेरी सिनाप्सिस नहीं बनी?’
‘ठहर, अभी ले... रिक्वेस्ट डालती हूँ|’
‘कहाँ..?’
‘अरे वो सनकी प्रोफ़ेसर शर्मा है ना,जो पिछले महीने रिटायर हुआ है.. ..वो लड़कियों को बहुत अच्छा रिस्पांस करता है|’
बगल म बैठ किरपासंकर अब और ध्यान ते उनकी बातैं सुनै लाग |
‘हम फोन किये रहेन,वो चिरकुट फोन नहीं उठायेसि ...|’लरिकवा कहेसि |
‘चुप,घंटी जा रही है|’
‘हेलो!.सर मैं रुपाली,..सर मेरा दोस्त ‘कबीर की भाषा’ पर काम कर रहा है|...तो उसे सिनाप्सिस जमा करनी है..सर ! कुछ प्वांट्स वाट्सेप कर दीजिए ना ?..कल सम्मिट करनी है सर| आप जब से रिटायर हुए है न सर, आप जैसा कोई दूसरा टीचर विभाग में नहीं बचा जो हम विद्यार्थियों की मदत करे|..प्लीज सर!...|’
‘क्या कहा सनकी ने?’
‘शाम तक हो जाएगा...मिठुआ बोली के जादू से सब काम हो जाते हैं..|मैं तो ऐसे ही मिठुआ सुर लगाती हूँ और घर बैठे अपने सब असाइंमेंट सनकी से वाट्सेप करा लेती हूँ| ठरकी बुड्ढों को चारा फेंकने से ...’
‘.....थोड़ा चारा मेरे लिए भी...बचा के रखना|’
प्रोफेसर किरपासंकर के कान खड़े हुइगे ,वुइ अपने फोन पर आये तमाम बिटेवन के ई तना कर रिक्वेस्ट डिलीट करे लाग|
######################################################################