बुधवार, 24 अप्रैल 2019

समीक्षा -"त्रिलोचन शास्त्री " पर 

-वरिष्ठ कवि चित्रकार,वास्तुकार  राजेन्द्र नागदेव तथा भाई विनय दास द्वारा-


"त्रिलोचन शास्त्री " पुस्तक पर
-वरिष्ठ कवि चित्रकार,वास्तुकार  राजेन्द्र नागदेव जी द्वारा लिखी समीक्षा|
जो अप्रैल-२०१९ के साहित्य नंदिनी के अंक में प्रकाशित हुई|





भाई विनय दास द्वारा "त्रिलोचन शास्त्री "पर लिखी गयी समीक्षा (जन संदेश टाइम्स,लखनऊ )

चित्र में ये शामिल हो सकता है: एक या अधिक लोग और पाठ

बुधवार, 31 अक्तूबर 2018


समीक्षा
भारतेंदु के पढीस
# डॉ.गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर
        
   पढीस जी को जब जब पढ़ा विद्यार्थियों  और विश्वविद्यालयी शोधकारों की टीकाओं में आयी पंक्तियों में पढ़ा|इसलिए कोई  सम्यक और सम्पूर्ण छवि मेरे मानस पटल पर अंकित न हो पायी लेकिन भारतेंदु के पढीस ने किसानी पीड़ा से गहरे जोड़ा भी और उनकी छवि को अंकित भी किया|
अभी दिल्ली जाना हुआ तो अग्रज भारतेंदु मिश्र जी की साहित्य अकादमी द्वारा भारतीय साहित्य के निर्माता श्रंखला के अंतर्गत प्रकाशित ‘बलभद्र प्रसाद दीक्षित पढीस ’ शीर्षक पुस्तक भेंट में मिली| उसे  किस्तों में पढ़ा|केवल १४४ पृष्ठों में पूरे पढीस जी को उतार लेने की कला पर मुग्ध हूँ|भारतेंदु जी में आलोचनात्मक मेधा के सृजन के लिए केवल यही पुस्तक पर्याप्त है|
आरंभ में कवि  का जीवन परिचय उसके बाद उनके कवि  रूप और कथाशिल्पी का परिचय कराते हुए लेखक ने बराबर सजगता बनाये रखी है कि ये रूप परस्पर टकराएँ नहीं|पढीस पर भले छायावादी प्रभाव यहाँ स्वीकारा गया है लेकिन उनके अविकल स्वर को प्रगतिवादी ही माना गया है|इस सन्दर्भ  में लेखक की यह टिप्पणी कि –‘जब एक ओर स्वतंत्रता संग्राम के सहभागी बुद्धिजीवियों की देश भक्ति पार्क कविताओं का दौर चल रहा था और दूसरी ओर छायावादी कविता की श्रंगारिक और नितांत वैयक्तिक प्रणयानुभूति की कवितायेँ लिखी जा रही थीं,उस दौर में पढीस जी अपने गाँव के मजदूरों किसानों के जीवन की आख्यान्धर्मी कवितायेँ लिख रहे थे|’ -उन्हें एक समाजचेता प्रगतिधार्मी कवि  सिद्ध करती हैं|
समाज में स्त्री की स्थिति से भी पढीस बेचैन रहे|उन्हें किसान और किसानी से कम चिंता स्त्री की नहीं रही|यह उनके चिंतन का  ही नहीं उनकी संवेदना का भी विषय रही|इसीलिए किसानी जीवन के अभावों के मध्य किसान की बेटी का जीवंत उभार उनका अभीष्ट बन जाता है-
फूले कासन ते ख्यालायि /घुन्घुवार बार मुहं चूमयि
बछिया बछवा दुलारावयि /सब खिलि खिलि खुलि खुलि ख्यालयि
बारू के ढूहा ऊपर परभातु अइसि कस फूली
पसु पंछी मोहे मोहे जंगल माँ मंगलु गावयि
बरसायि सतौ गुनु चितवइ  कंगला किसान की बिटिया|
पढीस जी का कविता से कहानी में प्रस्थान केवल विधागत नहीं |यह प्रस्थान भाषा से भी जुडा है|  वे अवधी से खडी बोली में जाते हैं और केवल आते ही नहीं पहचान भी बनाते हैं|इनके इस रूप के बारे में लेखक अमृतलाल नागर और मुंशी प्रेमचंद्र के सुपुत्र अमृत राय की टिप्पणियाँ भी उद्धृत करता है| ‘वह तस्बीरनिगारी में प्रेमचंद से आगे थे|’-नागर, और ‘कुछ बातों में प्रेमचंद से बड़े थे इनके गद्य में जो प्रभाव है और गहरी करुणा  है वह अन्यत्र दुर्लभ है|’-अमृत राय|
लेखक के इस कथन से भी कि- ‘ख़ास तौर से चरित्र चित्रण के मामले में अपने समय में अप्रतिम प्रतिभा के धनी थे|’सहमत  होने में शायद ही किसी को संकोच हो|क्योकि ये उस समय कहानियाँ लिख रहे थे जब कहानियों का प्रमुख स्वर ही चरित्र चित्रण था| सन 1938 में प्रकाशित कहानी संग्रह ‘ला मजहब ’ उन्हें एक श्रेष्ठ कथाकार के रूप में प्रतिष्ठापित करने के लिए पर्याप्त है|इस संग्रह की शीर्ष कहानी के साथ साथ  सन्निपात,पांखी,ढाई अक्षर,चिंतादास की गोली, व साथी आदि कहानियों का विस्तार से विश्लेषण करते हुए लेखक ने गद्यकार के उस प्रखर रूप को उद्घाटित किया है,जो  कवि रूप के नीचे दबा पडा था|भारतेंदु मिश्र पढीस के दलित विमर्श और दबे कुचले वर्ग के प्रति उनकी गहन संवेदना के साथ साथ स्त्री पुरुष के विषम अनुपात के लिए जताई चिंता का उल्लेख करते हुए उन्हें वह मुकाम दिलाना चाहते हैं जिस पर तथाकाथित प्रगतिशील काबिज हैं और पढीस जैसे असली हक़ दार अब तक पदच्युत  हैं-‘कुलीनता की जितानी आलोचना पढीस जी ने अपने  साहित्य में की है वैसी समतावादी दृष्टि बाद के बड़े लेखकों में भी नहीं मिलती है |’
‘चिंतादास की गोली ’कहानी के विश्लेषण में ही इस आलोचना पुस्तक में लेखक ने आगे लिखा है-‘ऐसी संवेदना में उस समय शायद ही कोई  कहानी लिखी गयी हो|प्रसंगवश इस कहानी में भारत की संभवत: पहली जनगणना में दर्शाए गए स्त्री पुरुष अनुपात  का भी उल्लेख है तब भी पुरुषों की तुलना से ढाई करोड़ महिलाएं कम थीं| ’
पढीस जी का दलित चिंतन केवल वैचारिक नहीं था|उन्होंने हरिजनों के बच्चों को बुलाकर घर पढ़ाना शुरू किया था वह भी उस समय जब ब्राह्मणों की कुलीनता का सूर्य समाज के ठीक सर पर चमक रहा था|वे अपनी प्रगतिशीलता कलम की नोक से नहीं हल की नोक से सिद्ध करने में विश्वास रखते थे|इसीलिए उन्हें ब्राहमणों के लिए निषिद्ध हल की मुठिया भी गही और किसानी के दर्द को किसी गरीब किसान में नहीं सीधे खेत में उतर कर करीब से देखा|
पढीस जी सहानुभूति के नहीं सघन संवेदना वाली अनुभूति के साहित्यकार हैं इसकी पुष्टि के लिए लेखक ने पुस्तकालयों में नहीं पढीस के गाँव और  खेत खलिहान में भी समय  गुजारा है | ऐसे श्रमसाध्य लेखक की सार्थकता इस पुस्तक के पढ़े जाने में ही है|पढीस के बारे में लेखक का मंतव्य है कि ‘उन्होंने जमीदार को न तो गाँव के अन्दर माना,और न परिवार के अंदर अपने को जमीदार बनाया|उनका सहज बोध इतना मानवतावादी था कि लोग उनकी थाह नहीं ले सकते थे|’ इतना  ही नहीं लेखक ने पढीस जी को प्रेमचंद और निराला के समकक्ष प्रतिष्ठापित किया है|-‘हिन्दी में तीन क्रांतिकारी लेखक थे –प्रेमचंद निराला पढीस|’ इससे स्पष्ट है कि आलोचक जहां पढीस जी के गद्य कहानी संसार को प्रेमचंद के विपुल रचना संसार के बराबर मानता है वहीं उनके काव्य जगत को निराला के समतुल्य|मुझे लगता है यहाँ आलोचक की दृष्टि व्यास पर नहीं समास पर है| भाषा भेद को भुलाकर ही हमारी आलोचना दृष्टि समरस हो सकती है|यह समरसता ही इस पुस्तक को सम्यक आलोचना दृष्टि से समृद्ध करती है|
कुछ चुनी हुई कवितायेँ भी यहाँ संकलित हैं|-अभिलास,ककनि जो हमहूँ पढि पाइति में -अशिक्षा ,पपीहा बोल जा रे –साजन आवें तब तुई आये /आजु बोल वुइ पार, बिटोनी में- बप्पा के तप की वेदी,अम्मा की दिया चिरैया ,घसियारिन में , ‘दुलहा के मुड़े पर गठरी /वह पाछे पाछे चली जाय /सुख झुलना झूलति |’ चेतौनी में-‘बर्न बने चारि मुलउ/जाति दद्दू याकयि आय| ’ किहानी में –‘सब द्याखयि कीन तमासा/वुइ कौधा हुइगें/बिजुली हुइगे| ’ और सत खंडे वाली में-  तुम्हरे पियारु के आसूं/हमका कस ना पघिलइहैं |’ कवि रचना संसार के संवेदात्मक घनत्व का अंदाज लगाना कठिन नहीं है|इन रचनाओं की अंतर्वस्तु अपने सामाजिक सरोकारों से लैस है और शैल्पिक तथा भाषिक संरचना काव्यशास्त्रीय सरोकारों से| इस पुस्तक में पढीस  जी के रेखाचित्र और निबंधों पर भी चर्चा की गयी है|
इनके मोवैज्ञानिक निबंध समाज की नाड़ी को किसी कुशल वैद्य की तरह पकड़ते ही नहीं रोग का कारण और निदान भी देते हैं|-‘बच्चे का स्वार्थ जब अतृप्त रह जाता है तो वह शैतानी करता है|हम इसे उसकी दुष्टता समझते हैं|’-पढीस
हम इसे केवल पारिवारिक शिक्षा तक सीमित मान ले तो यह हमारी नादानी होगी|यह तो शिक्षकों के प्रशिक्षण का ध्येय वाक्य बनाना चाहिए|इनकी इन्ही विशेषताओं के कारण डॉ.रामविलास शर्मा जैसे आलोचना की प्रथम पंक्ति के केंद्र में बैठकर आलोचक ने इन्हें हिन्दी के ‘वर्ग चेतस’ कवि  कहा है| कवि  और लेखक भारतेंदु मिश्र के पढीस में  हिन्दी की इस वर्गचेतना को स्पष्टत: पढ़ा जा सकता है|
पढीस जी पर लिखी गयी यह पुस्तक उनके  व्यक्तित्व और कृतित्व पर केवल बाह्य प्रकाश ही नहीं डालती अपितु उनके प्रतिपृष्ठ को आलोक में रखकर दिखाने का उपक्रम करती है|केवल 50/रुपये मूल्य की यह आलोचना पुस्तक केवल पुस्तकालयों की शोभा बनकर न रह जाए| यह चिंता विचारणीय ही नहीं आचरणीय  भी है|
बलभद्र प्रसाद दीक्षित पढीस जैसे ग्राम्य चेतना के कवि और लेखक पर लिखी इस पुस्तक के विषय में लिखते हुए इस बात का विशेष संतोष है कि इसे वह किसान भी खरीद सकता है जिसके लिए वे आजीवन चिंतित रहे|
लेखक-डॉ.गंगाप्रसाद शर्मा,गुशेखर ,प्रधानाचार्य -केन्द्रीय विद्यालय,भावनगर,गुजरात -फोन-8000691717


शुक्रवार, 12 अक्तूबर 2018


ejtknk
अवधी कहानी--
 lquhy dqekj oktis;h
     

            Ny diVq] LokjFk dkSmuq :i /kfj ds eu ek] ?kj ek ;k lekt ek ijosl dfj tkr gS ;fgdk vkdyu dfj ikmc ukeqefdu ugha rks eqfLdy t:j gSA cM+s&cM+s rqjZe [kk¡ xPpk [kk tkfr gSa rks fQj mfeZyk vmj jktu dsfj dkSmfu folkr tks fopkjs lh/k ljy x¡obZ i`"BHkwfe ls lgj dsfj pdkpkSa/k Hkjh gok ek jg; vk; jgSaA
            tc jktu xqIrk xk¡o ds ,dq de vkenuh okys ifjokj rs fudfj ds uxj ek ljdkjh foHkkx dsfj ukSdjh ik;sfu rks ?kj&ifjokj ukr fjLrsnkj lcS dsfj [kqlh dk fBdku ugha jgkA firkth xk¡o ek NksfV&eksfV ijpwu dsfj nqdku pykofr jgSaA dmfuo ruk rhu yfjdk nqb fcfV;u dsfj i<+kbZ&fy[kkbZ] lknh&fookgq fucVkbuA cM+s nqgquks yfjdk muds lkFkS nqdku ek gkFkq cVkoS ykfx] fcfV;k vius vius ?kju dh gksbZ xbZaA jktu i<+S&fy[kS ek Bhd&Bkd jgsa lks ljdkjh foHkkx ek vPNh Hkyh ukSdjh ykfx xSA jktu dk fookgq mudh ukSdjh ykxS ds ifgys gh lk/kkj.k ifjokj dh vkSlr i<+h&fy[kh mfeZyk rs gksbZxk jgSA mfeZyk ?kj&ckj ds dkeu ek cM+h fuiqM+ jghaA dbZ cjl xkoSa ek lkl&llqj dS lsok ek fcrkbZuA tc&tc ukSdjh rs NqV~Vh feyS jktu xkoSa igqap tkfr jgSaA g¡lh&[kq’kh fnu chfr jgs jgSa] ;gh chp mfeZyk ds ,dq fcfV;k] nqg yfjdk dqy rhu cPpk gksbxsA fcfV;k yfjdu dk vPNh f’k{kk nsoS ds [kkfrj egrkjh cki dS lgefr ySds jktu viu ifjokj lgj ek yS vk; vmj cPpu dk vPNs fo|ky; ek nkf[kyk djk fnfgusuA
            cPpk yksx vius&vius fo|ky; tk; ykfx] jktu vius vkfQl pys tk¡; rc ?kj dk lkjk dke&dkt fucVk; ds mfeZyk dcgw¡ Vh0oh0 pyk; ds dcgw¡ lkl&cgw okyk ,ihlksM n~;k[kSa] dcgw¡ ukr&fj’rsnkjh] ek;ds&lqljs ek VsyhQksu rs ckrS djSa vmj le; feyS rks vkjke djSaA nqigjh ckn yfjdk fcfV;k tc fo|ky; rs okil vk tk¡; rks mfeZyk muds ukLrk vmj gkse odZ djkoS ek ykfx tk;¡A lke
            tcrs jktu dk ifjokj vkiu edku ek jgS ykx] LokHkkfod :i rs jathr dk muds ifjokj rs esy&tksy vf/kd cf<+xkA jktu dcgw¡ jathr dk n~;k[kSa rks pk; ds fy;s cqyk ysa;A jathr cPpu dh i<+kbZ ek Hkh dkQh ennxkj gksb tkr jgSA jktu o muds fcfV;k] csVok losjs&losjs vius&vius vkfQl o Ldwy] dkyst pys tk;¡A mfeZyk ?kj ek vdsyh jfg tk;¡ rks dbZ ckj jathr rs lkeuk gksb tkr jgSA jathr mfeZyk dk HkkHkh dgr jgk rFkk g¡leq[k o O;ogkj dq’ky Hkh jgkA dbZ ckj t:jr iM+S ij mfeZyk jathr dsfj enn Hkh yS ysrh jgSaA jathr lkjk fnu [kkyh jgr jgS] ofgdh dksafpx Dykl lke dk gksfr jgSA dgkor gS fd yrk vius iklS okys isM+ ij fyiVfr gS] ;gS dqNq /khjs&/khjs mfeZyk vmj jathr ds chp Hkh iuiS ykxA jktu o fcfV;k&yfjdu ds tk;s ds ckn mfeZyk o jathr ?kUVu cSfB vkil ek tkus dk crykok djSaA cruS&ckru ek jathr dk ;gq ekywe gksbxk fd edku mfeZyk ds ukes gSA ;gS lksfp ds ogq fuyZTt vius rs yxHkx nl lky cM+h mfeZyk dk izse tky ek Q¡lk; ds vkiu LokFkZ fl) djS dk iz;kl djS ykxA dgfr gSa dksaps&dksaps lrh lkfo=h esgfj;k Hkh csxfj tkfr gS] ;gS gky lh/kh&lk/kh mfeZyk ds lkFkS Hkh HkokA cgqr fnu rd ;gq izse dk [ksyq pksjh Nqis pyr jgkA fQj vpkud ,dq fnu 'kke dk tc cPps yksx Ldwy dkyst rs vk;s rks ?kj ek mfeZyk ugha feyha] Qksu Hkh cUn] vkl&iM+ksl ds ?kju ek Hkh ugh arks fcfV;k yfjdk ijs’kku gksbds jktu dk [kcj dhUgsfu] cngokl jktu tYnh&tYnh ?kjS vk;sA ,slh&oSlh tku ifgpku] ukr&fjLrsnkjh ek Qksu dfjds irk dhu xk ysfdu dgw¡ irk ugha pykA lkeus jathr Hkh vius ?kj ek ugha feyk vmj Qksu Hkh cUn jgSA jktu ds fnekx ek mfeZyk vmj jathr dk ybds vcgw¡ dmuks 'kd ugha jgSA [kkst&chu djr&djr jkfr gksbxS] /khjs&/khjs iwjs eqgYys dk lqxcqxkgV gks; ykfxA yksx vkil ek rjg&rjg dsjh ckrS djS ykfxA iqfyl ek fjiksVZ djS dsfj ckr vkbZ rks cnukeh dk Mj lkeus vk xokA jkfr Hkfj lkjk ifjokj fj’rsnkj] gsrh O;ogkjh lc ijs’kku jgs] u [kkuk&ihuk Hkok] u dksm lks ikokA
            lcsjs&lcsjs jktu ds eksckby ij jathr dk Qksuq vkok] ogq cksyk ^^HkkbZ lkgc! HkkHkh gejs lkFkS gSa] ge nqguks yksx ,dq nqljs rs cgqr izse dfjr gS] vc ge yksx vkifu vyx nqfu;k clkbcs] ge tgk¡ gu Bhd gu] gedk okys gksbxs jgSa fd mudh egrkjh dkSuq xqy f[kykbfl gS ;gq lef> ldSa] fcpkjs dksgw ls utj ugha feyk ik jgs jgSaA gekj lektq tmuh ejtknk ek c¡/kk gS] ofg dfj mya?ku dbds xqtkjk eqfLdy gksr gSA unh dsj cgko tc dwy rksfM+ ds cgr gS rks rckgh yb vkor gSA ;gS rckgh mfeZyk ds O;ogkj rs muds ifjokj vk xbZ jgSA
            Fkkus ek fjiksVZ djkbZ xS] ekeyk lkoZtfud gksbxk] LFkkuh; v[kckju ek o Vh0oh0 pSuyu ek Hkh [kcj izlkfjr HkS] tks u tkur jgS ogkS tkfuxkA dbZ fnu gqbxs jktu vkfQl ugh xs] yfjdk fcfV;k Ldwy dkyst ugha x;s] dk djSa fcpkjs dfgdk eq¡g fn[kkoSaA iqfyl ds iz;kl dhUgs ls irk pyk fd mfeZyk vmj jathr nqljs eqgYys ek fdjk;s dk edku ybds jfg jgS gSaA iqfyl mudk Fkkus ij yk;h b/kj jktu dk cqykok xk] vkeuk lkeuk djkok xkA irk ugha 40 cjl dh mej ek mfeZyk ds dkSu bLd lokj jgS fd 22 cjl ds oSokfgd fjLrk dk fcYdqy fygkt u dfjds lkQ&lkQ jktu ds eqgS ij cksfy xbZ fd ^^vc rqels o cPpu ls gekj dmuks fjLrk ugha gS] vc gejs fy, jathr gh lc dqN gS] ge vius edku ds dkxt Hkh yS vkbu gS tks gejs ukes gSa] vki ,dq eghuk ds Hkhrj edku [kkyh dfj nsoA** jktu dk vc lkjk ektjk le> ek vk pqdk jgS fd lkjk [ksyq edku dk ySds gh gS] mudk ;gkS le>S ek vk xok fd mudh lh/kh&lk/kh iRuh dk ;gq /kwrZ jathr dmuh rjg izse tky ek Q¡lkbfl gSA fcpkjs jktu viu nnZ dfgls dgSa] tc vdsys gksa; rks xyk Hkfj vkoS vk¡f[ku ls ikuh Nyfd tk;] vPNs [kkls [kkr&fi;r ifjokj ek tkus dfgdS utj ykfx xSA
            dbZ fnu chfr xs ckr nwfj&nwfj rd QSfy xS] ?kj&ifjokj] fjLrsnkj lcS vkoSa viu nq[k trkoSa vmj okil pys tk;¡A dqN utnhdh fj’rsnkj mfeZyk rs ckr djS dsfj dksfll dhUgsfu exj dkSfuo ckr ugha cuhA ;gh chp mfeZyk vmj jathr efUnj ek tk; ds 'kknh Hkh dfj yhUgsfuA vc jathr vf/kd rsth ls edku [kkyh djkoS dk ncko cukoS ykxA mfeZyk dk ?kj rs x;s iUnzg fnu rs vf/kd gksb x;s] vc izse D;kj cks[kkj mrjS ykx] lkFkS lkFk ;gq ,glkl Hkh gks; ykx fd cgqr cM+h Hkwy gksb xbZ gSA jktu dsfj ;kn vmj cPpu D;kj eksg tksj ekjS ykx ysfdu jathr D;kj edln rks nwlj jgS] ogq dmfuo lwjr ek thrh ckth gkjk ugh pgr jgSA jktu LFkkuh; fo/kk;d rs fefyds iqfyl ij ncko cuk;s jgs tfgds QyLo:i jathr ds f[kykQ vigj.k D;kj eqdnek ntZ Hkk] fxj¶rkjh HkbZ vmj mfeZyk dsfj cjkenxh dfjds jktu dk lkSaik xkA
            ;fg izdkj iwjs ekeys dk iVk{ksi rks gksb xk ysfdu ifr iRuh ds fnyu ek tkSfu njkj iM+h ofgdk Hkjc vklku ugha jgSA ?kj ek lkjs ogh yksx vcgw¡ gSa tkSfu ifgys jgs exj ?kj dh [kq’kgkyh ek tSls xzg.k ykfx xkA mfeZyk u rks jktu ls utj feyk ikoSa vmj u gh fcfV;k yfjdu rs] ,slh ifjfLFkfr ek mfeZyk ds fny ij dk chfr jgh gksbZ vUnkt yxkc eqf’dy ughaA mfeZyk viuh uknkuh ij i'pkrki ek fHkrjS Hkhrj xyh tk jgh jgSa] b/kj jktu vmj fcfV;k yfjdk Hkh LokHkkfod O;ogkj ugha jkf[k ik jgs jgSaA mfeZyk ds thou dsfj lkjh meax [kre gksb pqdh jgS] ?kj dk dkedkt rks og ;U=or fucVk jgh jgSa ysfdu ofgds ckn fnu Hkj i'pkrki ek fcLrj ek iM+s iM+s vk¡lw cgkok djSA ;gq lc nsf[k ds jktu dk Hkh cgqr d"V gksb jgk jgS ysfdu pkg ds Hkh ?kj dk ekgkSy ifgys tSbl ugha gksb ik jgk jgSA mfeZyk lkekftd e;kZnk dsfj yfNeu js[kk yk¡f?k pqdh jgSa ;gq lcq ogh dk [kkfe;ktk lkeus fn[kkbZ ns jgk jgSA vkf[kj ogS gqvk tfgdh dYiuk ek= rs ru&eu flgj tk;A ,dq fnu lcsjs&lcsjs yksx vius&vius ?kju rs VgyS fudjS rks jktu ds ?kj ds cxy ek lM+d ij dk utkjk nsf[k ds flgj x;sA mfeZyk Nr ls dwfn ds vius ikiu dk izk;f’pr djS ds mn~ns’; rs vkRegR;k dk oj.k dfj yhUgsfu jgSaA lc yksx vius&vius ?kju rs fudfj vk;s] 'kjhj BUMk gksbZ pqdk jgS] lkjk [kwu cfgds lM+d ij dkyk&dkyk tfe xok jgSA iqfyl dk lwpuk nhu xS] iapukek] iksLVekVZe dsfj dk;Zokgh ds ckfn lkjs jhfr&fjokt ls 'ko dk vfUre laLdkj dfj nhu xkA
            'ke’kku rd lkFk x;s lc tus ,dq&,dq dfjds okil pys xsA fprk BUMh ifM+ xbZ jgS] 'kjhj ds uke ij jk[k vmj dqN v/ktyh vfLFk;k¡ gh cph jfg xbZ jgSaA jktu fufoZdkj Hkko ls ewfrZor cSBs fprk dh vksj gh nsf[k jgs jgSaA 'kke >ksaM+ ds cksyk ckcw th v¡/ksjk gksb xk] lc yksx pys x;s vc vkio ?kjS tkoA jktu dsfj psruk ykSVh oks /khjs&/khjs cksf>y dneu ls ?kj dh rjQ pfy iM+sA

 laidZ lw=             % 8@361] fodkl uxj] y[kuÅ&226022

pyHkk"k               % 9415189437
Email ID                                 - sunil13june1963@gmail.com
प्रस्तुति -भारतेंदु मिश्र